We are all tied to our Destiny

By
In blog

किस्मत

जिद थी खुद से उसे पाने की

आंगन में खुशियां लाने की

हाथों की लकीरो में उसे सजाने की

ख्वाबों को हक़ीक़त बनाने की

 

न थी हाथों की लकीरों में

न थी किस्मत के सितारों में

न थी जीवन की राहो में

न थी साहिल के किनारों में

 

लोगों से सुनता आया हूँ

सब किस्मत का लेखा है

कौन किसे जीता या हारा

ये किसने कब देखा है

 

ये दुनिया का रेला है

जो आया हैं वो जायेगा

उतना ही जी पायेगा

जितनी जिसकी रेखा हैं

-कमल हुसैन