every child deserves a happy childhood- kamal Hussain

By
In blog
बचपन
मैने देखा आज बचपन को रोते हुए
नन्हे ख्वाबों को आंसू पिरोते हुए
माँ के आँचल में रो के छिप जाते है जब
उस उम्र में बर्तन को धोते हुए
स्कूल की किताबों को बस्ते में बंद करते हुए
सूखी ब्रेड को चाय में भिगोते हुए
उनकी आँखों में हसरत को पलते हुए
बहन भाई संग लड़ते झगडते हुए
एक दूजे को रूठते मनाते हुए
हंस हंस के ममता का हक़ लेते हुए
मैने देखा आज बचपन को रोते हुए
जरुरत हे उस अनाथ को बस एक सहारे की
उसकी जीवन नैया को बस एक किनारे की
क्या वो मैं नहीं हो सकता एक सवाल उभरा
क्या वो तुम नहीं हो सकते एक सवाल उभरा
आओ मिल कर एक छोटा सा आशियाना बनाये
इस नन्हे बचपन के ख्वाबों को उसमे सजाये
ताकि नन्ही आँखों  का कोई ख्वाब न टूटे
किसी बचपन से ममता का आँचल न छूटे
-कमल हुसैन